850 करोड़ वेतन पाता है ये शख्स, जानिए कौन है ये?

0
850

भारत के गाजियाबाद में जन्मे निकेश अरोड़ा विश्व के सबसे ज्यादा वेतन लेने वाले लोगो में से एक है निकेश जापान के सॉफ्टबैंक ग्रुप से 2014 में जुड़े। 48 साल के अरोड़ा इससे पहले गूगल में थे। ‌वह वहां पर सबसे ज्यादा सैलरी वाले एग्जिक्यूटिव्स में से थे। निकेश अरोड़ा को सॉफ्टबैंक से 31 मार्च 2016 में करीब 500 करोड़ रुपये का पे पैकेज मिला। इससे वह पूरी दुनिया में सबसे ज्यादा वेतन पाने वाले एग्जिक्यूटिव्स में से एक बन गए। पिछले फिस्कल ईयर में उन्हे ज्वाइनिंग बोनस समेत पे पैकेज के तौर पर करीब 850 करोड़ रुपये मिले।
nk-w
850 करोड़  का वेतन पाने वाले निकेश अरोड़ा का जन्म भारतीय वायुसेना के अधिकारी के घर में 9 फरवरी 1968 को गाजियाबाद में हुआ था। आईआईटी 1989 में बीएचयू से इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में ग्रेजुएट और बोस्टन यूनिवर्सिटी से एमबीए करने वाले अरोड़ा जब अमेरिका पहुंचे थे तो उनकी जेब में महज 200 डॉलर थे। 2004 में उन्होंने गूगल जॉइन किया और इसके यूरोपियन ऑपरेशंस की अगुवाई की। बाद में वह कंपनी के चीफ बिजनस ऑफिसर बने। अरोड़ा ने 1992 में फिडेलिटी इनवेस्टमेंट्स में अपने कैरियर शुरू किया

इसे भी पढ़िए :  अगर नहीं माना ईरान तो भारत देगा ये बड़ा झटका

अरोड़ा ने 1992 में फिडेलिटी इनवेस्टमेंट्स में अपने कैरियर शुरू किया। सॉफ्टबैंक से जुड़ने से कुछ महीने पहले ही अरोड़ा की शादी दिल्ली की बिजनैस वुमन आयशा थापर से हुई थी। जो इंडियन सिटी प्रॉपर्टीज के सीईओ विक्रम थापर की बेटी हैं।

इसे भी पढ़िए :  टाटा समूह की सफलता के लिए मिस्त्री को हटाना जरूरी हो गया था: रतन टाटा

निकेश को गॉल्फ खेलने के शौक है निकेश ने सॉफ्टबैंक में अपने दो साल के कार्यकाल के दौरान कंपनी की ग्लोबल इनवेस्टमेंट स्ट्रैटेजी तैयार की। खासतौर पर वह इंडियन स्टार्टअप्स को लेकर काफी बुलिश रहे। अरोड़ा ने अपना करियर इंडिया में विप्रो के साथ शुरू किया था।

इसे भी पढ़िए :  ‘अप्रैल से सितंबर के बीच कभी भी लागू हो सकता है GST’

अक्टूबर 2014 में अरोड़ा ने गूगल के वाइस चेयरमैन का पद छोड़कर सॉफ्टग्रुप को ज्वाइन किया था। गूगल में वह चीफ बिजनस ऑफिसर थे। अक्टूबर 2014 में ही अरोड़ा की अगुवाई में सॉफ्टबैंक ने स्नैपडील में 62.7 करोड़ डॉलर और ओला में 21 करोड़ डॉलर का निवेश किया था। नवंबर 2014 में सॉफ्टबैंक ने रियल एस्टेट वेबसाइट हाउसिंग में 9 करोड़ डॉलर लगाए थे।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY