जानिए क्यों रखा ‘सरकार’ ने फिल्म का नाम “पिंक”

0
पिंक
Prev1 of 3
Use your ← → (arrow) keys to browse

शूजीत सरकार की फिल्म पीकू के अच्छे खासे रिस्पोंस के बाद फिल्म पिंक की भी हर तरफ खूब तारीफ हो रही है। फिल्म पिंक लैंगिक समानता के मुद्दे को बखूबी उठाती है। समाज में फैल रही गंदगी को सरकार ने पिंक के माध्यम से काले सच के रूप में दर्शाया है। यही वजह है कि दर्शकों को इस फिल्म से खासा लगाव दिख रहा है।

इसे भी पढ़िए :  मोदी सरकार ने जनता को cashless का मतलब समझाने में खर्च किए 94 करोड़... आ गई निशाने पर

अब तक अधिकतर लोगों ने फिल्म देख ली है लेकिन इस फिल्म का नाम पिंक क्यों रखा गया, कम ही लोगों ने इस बारे में सोचा होगा या फिर अधिकतर लोगों ने फिल्म पिंक का जो मतलब निकाला, वह गलत निकाला। आप भी शायद यही सोच रहे होंगे कि फिल्म का नाम पिंक इसलिए रखा गया होगा क्योंकि पिंक लड़कियों का कलर माना जाता है और फिल्म महिला सशक्तीकरण के मुद्दे को उठाती है। लेकिन पिंक शब्द के इस सामान्य अर्थ से ज्यादा कहीं गहरे अर्थ और भाव हैं।

इसे भी पढ़िए :  फिल्म ‘जब हैरी मेट सेजल’ का प्रमोशन करने बनारस पहुंचे शाहरुख
Prev1 of 3
Use your ← → (arrow) keys to browse

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY