उरी हमले के पीछे के लोगों को भुगतना होगा परिणाम: जेटली

0
फाइल फोटो।

नई दिल्ली। जम्मू कश्मीर के उरी सेक्टर में आतंकवादी हमले की निंदा करते हुए वित्त मंत्री अरूण जेटली ने कहा है कि जो भी इस वीभत्स घटना के पीछे हैं उन्हें इसका परिणाम भुगतना होगा और ‘हम अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पाकिस्तान को अलग थलग करने के लिए कूटनीतिक प्रयास’ शुरू करेंगे।

भारतीय जनता पार्टी के नेताओं के साथ आगामी चुनाव की तैयारियों के मद्देनजर बैठक करने आये वित्त मंत्री अरूण जेटली ने संवाददाता सम्मेलन में हमले के लिए पाकिस्तान को जिम्मेदार ठहराया। हमले में 17 सैन्यकर्मी शहीद हो गये और 19 घायल हो गये।

इसे भी पढ़िए :  पाकिस्तान पर बरसे गृहमंत्री, राहुल ने राजनाथ को लिया निशाने पर

जेटली कहा कि ‘‘पंजाब के पठानकोट के बाद अब उरी में आतंकवादी हमले हुए हैं। ये आतंकी हमले देश की एकता तथा सुरक्षा को पडोसी की तरफ से मिली एक बडी चुनौती है।’’ वित्त मंत्री ने कहा कि ‘‘आजादी के बाद से पडोसी पाकिस्तान यह कभी स्वीकार नहीं कर सका कि जम्मू कश्मीर भारत का अभिन्न हिस्सा है और यही कारण है कि उनके समर्थन से देश में आतंकवाद की घटना होती रहती है।’’

इसे भी पढ़िए :  आतंकियों का अगला मिशन 'टारगेट दिल्ली', खुफिया विभाग का अलर्ट, सुरक्षा विभाग चौकस

उन्होंने कहा कि ‘‘अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पाकिस्तान को पूरी तरह अलग थलग करने के लिए अब कूटनीतिक प्रयास किया जाएगा ताकि उनका सच दुनिया के सामने आए। जिन लोगों ने हमले को अंजाम दिया है उन लोगों को इसका परिणाम और सजा भुगतनी होगी।’’

जेटली ने कहा कि ‘‘पठानकोट एवं उरी (आतंकी हमलों) से प्रतीत होता है कि उन्होंने (आत्मघाती हमलावरों ने) इसे फिर शुरू कर दिया है। मुझे लगता है कि यह एक बड़ी चुनौती है तथा मैं आश्वस्त हूं कि हमारे सुरक्षा बल इसका जवाब देने के लिए तैयारी कर रहे हैं।’’

इसे भी पढ़िए :  गलत बयानी पर अरूण जेटली को दिया कांग्रेस ने नोटिस

बाद में उन्होंने ट्वीट किया कि ‘‘उरी हमले का षड्यंत्र रचने वालों को दंडित किया जाएगा। मेरी भावनाएं एवं प्रार्थना शहीद एवं घायल सैनिकों के परिवारों के साथ हैं।’’ उन्होंने यह भी कहा कि ‘‘उरी आतंकी हमला कायरता की कड़ी भर्त्सना करने वाला कृत्य है। हमारे सैनिकों को सलाम जिन्होंने मातृभूमि की सुरक्षा के लिए सर्वोच्च बलिदान दिया।’’

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY