अब केन्द्र सरकार ने बदला ‘इंदिरा आवास’ योजना का नाम

0
इंदिरा आवास
Prev1 of 2
Use your ← → (arrow) keys to browse

गरीबी रेखा से नीचे के तबके को अपना घर देने के लिए पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने इंदिरा आवास योजना की शुरूआत की थी। राजीव गांधी की इस महत्वाकांक्षी योजना से अबतक लाखों गरीबों का घर का सपना पूरा हुआ। लेकिन गांव-गांव और गली-गली तक मशहूर हो चुकी इस योजना का नाम और स्वरूप दोनों बदलने जा रहे हैं। जी हां केन्द्र सरकार ने इंदिरा आवास योजना को बदलने का फैसला किया है। अब इसका नाम प्रधानमंत्री आवास योजना कर दिया गया है। इसे अगले महीने जारी किया जाएगा।

इसे भी पढ़िए :  देश के विकास दर पर नोटबंदी का असर, एशियाई विकास बैंक ने घटाया वृद्धि दर अनुमान

सूत्रों के मुताबिक नई स्कीम के तहत सरकार का 2019 तक एक करोड़ मकान बनाने का लक्ष्य है। गौरतलब है कि इससे पहले भी केंद्र सरकार कई योजनाओं से गांधी-नेहरू परिवार का नाम हटा चुकी है। हालांकि ग्रामीण विकास मंत्रालय के अफसरों ने योजना के नाम में बदलाव का कोई कारण नहीं बताया है। इंदिरा आवास योजना के तहत सरकार का इस वित्तीय वर्ष में 38 लाख मकान बनाने का लक्ष्य है, जिनमें से 10 लाख घर बनकर तैयार हो चुके हैं। सूत्रों के मुताबिक, एक अप्रैल 2017 से ये योजना प्रधानमंत्री आवास योजना में समाहित कर दी जाएगी।

इसे भी पढ़िए :  जल्द ही आपकी जेब में होगा 2000 के अलावा एक और गुलाबी नोट

इस योजना से जुड़ी मुख्य बातें जानने के लिए अगले स्लाइड में जाएं, next बटन पर क्लिक करें

Prev1 of 2
Use your ← → (arrow) keys to browse

इसे भी पढ़िए :  श्रीनगर: जकूरा में SSB जवानों पर आतंकी हमला, एक जवान शहीद, 8 घायल

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY