कलराज मिश्र ने किया गडकरी का समर्थन, कहा- मनमोहन सिंह ने ही दिया था ‘अच्छे दिन’ का नारा

0
फाइल फोटो।

नई दिल्ली। केन्द्रीय मंत्री कलराज मिश्र ने बुधवार(14 सितंबर) को केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि ‘‘यह बात सही है कि पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह ने ही कहा था कि अच्छे दिन आएंगे, उस पर हमारे नेता एवं वर्तमान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा था कि हम आएंगे, तो अच्छे दिन आएंगे।

उन्होंने कहा कि ‘‘मैं विश्वास के साथ कह सकता हूं कि हमारी सरकार क्रमश: अच्छे दिन की प्रक्रिया को आगे बढाने में है। एक सकारात्मक दिशा का का निर्माण हुआ है और एक सकारात्मक सोच पैदा हुई है। सरकार के बारे में भ्रष्ट, घपलेबाज और देश की सुरक्षा नहीं कर संबंधी नकारात्मकता को हमने खत्म कर दिया है।’’

इसे भी पढ़िए :  क्या आपने देखा मुख्यमंत्री हरीश रावत का बाहुबली अवतार?

मिश्र ने कहा कि ‘‘हमारे कार्यों पर टिप्पणी भले हो सकती है कि ये होना चाहिए, वो होना चाहिए, लेकिन सरकार के प्रति सकारात्मक भाव में कमी नहीं आयी है और यह भाव गांव के लोगों से सुनने को मिलता है। मोदी जी करेंगे यह विश्वास लोगों में बना हुआ है।

उन्होंने कहा कि ‘‘मैं विश्वास के साथ कह सकता हूं कि अच्छे दिन आएंगे। यह विश्वास इसलिये पैदा हुआ है, क्योंकि हम क्रमश: आगे आ रहे हैं।’’ मिश्र ने कहा कि ‘‘हम क्रमश: आगे आ रहे हैं और जनता इसका आंकलन करती है। आम आदमी यह महसूस कर रहा कि आने वाला समय अच्छे दिन लायेगा।’’

इसे भी पढ़िए :  कांग्रेस समेत 16 पार्टियों ने राष्ट्रपति और चुनाव आयुक्त को लिखा पत्र, कहा- जल्दी बजट मत लाने दीजिए, इससे BJP को फायदा होगा

मालूम हो कि केन्द्रीय मंत्री गडकरी ने एक दिन पहले मुंबई में बयान दिया था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का ‘अच्छे दिन’ का मशहूर नारा दरअसल पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने दिया था, उन्होंने कहा था कि “प्रवासी भारतीयों के प्रोग्राम में मनमोहन ने कहा था कि अच्छे दिनों के लिए इंतजार करना होगा।

इसे भी पढ़िए :  MCD चुनाव से पहले बीजेपी ने 5 पार्षदों समेत 21 कार्यकर्ताओं को पार्टी से निकाला, पढ़िए-क्यों ?

उसी के जवाब में नरेंद्र मोदी ने कहा था कि हमारी सरकार आएगी, तो अच्छे दिन आएंगे। उस वक्त ‘अच्छे दिन’ की कल्पना रूढ़ हो चुकी थी। यह बात मुझे पीएम मोदी ने ही बताई थी।” लेकिन यह नारा अब मोदी सरकार की गर्दन का ‘बोझ’ बन गया है। पिछले लोकसभा चुनाव के दौरान अच्छे दिन के नारे का खूब इस्तेमाल किया था।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY