नेताजी से शिवपाल यादव ने कहा, मुझे विलेन बताया जा रहा है

0
शिवपाल यादव

 

दिल्ली:

समाजवादी पार्टी का संकट खत्म होने का नाम नहीं ले रहा और पार्टी के वरिष्ठ नेता शिवपाल सिंह यादव ने आज पार्टी सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव से कहा कि उनके आदेशों का पालन करने के बाद भी उन्हें विलेन के तौर पर पेश किया जा रहा है।

शिवपाल पार्टी प्रमुख मुलायम के छोटे भाई हैं। उन्होंने आज दिल्ली में मुलायम से उनके सरकारी आवास पर मुलाकात की।

दोनों की बैठक चार घंटे से भी ज्यादा देर तक चली और इसमें शिवपाल ने मुलायम से कहा कि पिछले साढ़े चार साल में विभिन्न मुद्दों पर मतभेदों के बावजूद उन्होंने पार्टी प्रमुख के निर्देशों का पालन किया।

इसे भी पढ़िए :  रामगोपाल की मुलायम को तल्ख चिट्ठी, कहा 'नेताजी, सपा के पतन के लिए आप होंगे जिम्मेदार'

शिवपाल के करीबी सूत्रों ने बताया कि उन्होंने उदाहरण दिया कि अखिलेश यादव सरकार में वरिष्ठ मंत्री के रूप में उन्होंने अखिलेश या मुलायम द्वारा लिए गए निर्णयों का कभी सार्वजनिक रूप से विरोध नहीं किया हालांकि उन्होंने उनसे निजी मुलाकात में मतभेदों का जिक्र किया।

शिवपाल ने बाद में संवाददाताओं से बातचीत में इन अटकलों को खारिज कर दिया कि पार्टी के अंदर और यादव परिवार में कोई मतभेद है।

इसे भी पढ़िए :  योगी के कार्यक्रम में मची लूट, वीडियो में देखिए कैसे बूढ़े-बच्चे और महिला सबने मारी बाजी

उन्होंने कहा, ‘‘न तो मैं और न ही नेताजी नाराज हैं। हम सब खुश हैं..कोई मतभेद नहीं है।’’ उन्होंने कहा कि कैबिनेट विभागों का फैसला मुख्यमंत्री का विशेषाधिकार है। ‘‘लेकिन नेताजी ने मुझे पार्टी की राज्य इकाई का अध्यक्ष नियुक्त करने का फैसला किया है। मेरी जिम्मेदारी अगले चुनाव में सपा को सत्ता में वापस लाना है। मैं अपनी जिम्मेदारी पूरी करूंगा..मैं इस्तीफा नहीं दूंगा..मैं अब भी कैबिनेट में शामिल हूं।’’ शिवपाल ने कहा कि अमर सिंह को सपा में फिर से शामिल कि जाने से लेकर महागठबंधन के साथ प्रयोग तक उन्होंने हमेशा मुलायम के निर्देशों का पालन किया है। फिर भी उन्हें विलेन बताया जा रहा है।

इसे भी पढ़िए :  NHRC में पहली बार राजनेता शामिल, केन्द्र सरकार बीजेपी उपाध्यक्ष की कराएगी एंट्री

यादव बंधुओं की मुलाकात जारी रहने के बीच ही राज्यसभा सदस्य और मीडिया हस्ती सुभाष चंद्रा भी मुलायम के आवास पर पहुंचे तथा वहां करीब दो घंटा रहे।

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY