सिंधु जल संधि टूटी तो मुश्किल में पढ़ जाएगा भारत , जानिए कैसे

0
सिंधु जल संधि
Prev1 of 2
Use your ← → (arrow) keys to browse

उरी हमले के बाद से भारत में पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब देने की मांग जोर-शोर से उठ रही है। और इसी के तहत सोशल मीडिया पर भारत पर सिंधु जल संधि को भी तोड़ने की मांग उठ रही है। लेकिन मांग करनी जितनी आसान है, समझौता करना उतना आसान नहीं है।

भारत और पाकिस्तान के बीच चल रहे मौजूदा तनाव के बीच विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप के बयान से ये अटकलें लगने लगीं कि क्या भारत सिंधु जल संधि तोड़ देगा? क्या भारत 1960 में हुई इस संधि की अनदेखी करते हुए सिंधु का पानी रोकेगा? भारत और पाकिस्तान के बीच जंग का बिगुल बजाने के उत्सुक लोगों को ये बात भले ही उत्साहित करने वाली लगे, लेकिन सिंधु का पानी रोकना न तो व्यवहारिक विकल्प है और न ही ये आर्थिक रूप से संभव होगा।
वीडियो में देखिए-पाकिस्तान से आया धमकी भरा वीडियो, कहा भारत को नेस्तनाबूत कर देंगे- देखिए वीडियो
भारत के प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू और पाकिस्तान के राष्ट्रपति अयूब ख़ान के बीच सिंधु जल संधि 1960 में हुई। इसमें सिंधु नदी बेसिन में बहने वाली 6 नदियों को पूर्वी और पश्चिमी दो हिस्सों में बांटा गया। पूर्वी हिस्से में बहने वाली नदियों सतलज, रावी और ब्यास के पानी पर भारत का पूर्ण अधिकार है, लेकिन पश्चिमी हिस्से में बह रही सिंधु, चिनाब और झेलम के पानी का भारत सीमित इस्तेमाल कर सकता है।
वीडियो में देखिए-डंडे से पीट कर बुलवाया भारत माता की जय देखिए वीडियो
अगले पेज पर पढ़िए- संधि टूटने पर भारत को क्या होगा नुकसान

इसे भी पढ़िए :  संस्कृति मंत्रालय साफ करे, ताजमहल मकबरा या मंदिर : सीआईसी
Prev1 of 2
Use your ← → (arrow) keys to browse

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY