मोदी अचानक अल्पसंख्यकों के ‘प्रवक्ता’ बन गए हैं: दिग्विजय सिंह

0
फाइल फोटो।

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर अल्पसंख्यकों के मुद्दे को लेकर ‘यूटर्न’ लेने का आरोप लगाते हुए कांग्रेस के नेता दिग्विजय सिंह ने गुजरात के मुख्यमंत्री के कार्यकाल के दौरान मोदी की भूमिका पर सवाल उठाया और साथ ही आश्चर्य व्यक्त किया कि वह अचानक अल्पसंख्यक समुदाय के प्रवक्ता बन गए हैं।

इसे भी पढ़िए :  'गाय माता के नाम पर इंसानों को तो मत मारो, हम मुसलमान भी हिंदुस्तान के ही हैं'

कोझिकोड में भाजपा की राष्ट्रीय परिषद की बैठक में मोदी की टिप्पणी का जिक्र करते हुए कांग्रेस के महासचिव ने सवाल किया कि मोदी ने 2001 से 2014 के दौरान गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में अल्पसंख्यकों के सशक्तिकरण के लिए क्या किया?

कांग्रेस की एक बैठक से इतर दिग्विजय सिंह ने संवाददाताओं से कहा कि प्रधानमंत्री हमारी भाषा बोल रहे हैं। यह जानना काफी आश्चर्यजनक है कि मोदी अचानक इस देश के अल्पसंख्यकों के प्रवक्ता बन गए हैं।

इसे भी पढ़िए :  संसद में नोटबंदी को लेकर हंगामा, लोकसभा की कार्यवाही 12 बजे तक के लिए स्थगित

उन्होंने कहा कि हमारे ऊपर अल्पसंख्यकवाद का आरोप लगाया जाता था, अब नरेन्द्र मोदी अल्पसंख्यकों के सशक्तिकरण की बात कर रहे हैं। जब वे गुजरात के मुख्यमंत्री थे तब उन्होंने अल्पसंख्यकों का सशक्तिकरण किया? क्या उन्होंने गुजरात दंगों में शामिल लोगों के खिलाफ कार्रवाई की?

इसे भी पढ़िए :  पढ़िए: कालाधन रखने वाले 500,1000 के नोटों का क्या कर रहे हैं, तस्वीरें देखकर हैरान रह जाएंगे

उन्होंने कहा कि क्या वे वही व्यक्ति नहीं हैं, जिन्होंने मुसलमानों को गुजराज में छात्रवृत्ति देने से इंकार किया था। सिंह ने मोदी के बयान को पूरी तरह से यूटर्न बताया।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY