मोदी की पाकिस्तान यात्रा का निर्णय सही समय पर किया जाएगा: सरकार

0
फाइल फोटो।

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पाकिस्तान में इस वर्ष नवंबर में आयोजित होने वाले दक्षेस (सार्क) सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए जाएंगे या नहीं, यह एक ‘नीतिगत निर्णय’ होगा जिस पर सरकार द्वारा ‘सही समय’ पर फैसला किया जाएगा। सरकारी सूत्रों ने बुधवार(17 अगस्त) रात यह बात कही।

पीटीआई के मुताबिक, सरकार का कहना है कि यह कुछ ऐसा है जिस पर हम निर्णय सही समय पर करेंगे। कश्मीर में जारी अशांति को लेकर भारत और पाकिस्तान के बीच वाकयुद्ध तेज हो गया है और भारत ने इस मुद्दे पर विदेश सचिव स्तरीय वार्ता आयोजित करने के पाकिस्तान के प्रस्ताव खारिज कर दिया। आपको बता दे कि उन्नीसवां दक्षेस सम्मेलन का आयोजन नवंबर में इस्लामाबाद में होना है।

इसे भी पढ़िए :  पर्रिकर अब गोवा के लोगों के नायक नहीं: पूर्व RSS नेता

यह पूछे जाने पर कि वित्त मंत्री अरूण जेटली दक्षेस देशों के वित्त मंत्रियों की बैठक में हिसा लेने के लिए क्या पाकिस्तान की यात्रा करेंगे, सूत्रों ने कहा कि इस पर निर्णय ‘‘दृढ़ता से नहीं किया गया है।’’ इन खबरों के बारे में पूछे जाने पर कि हो सकता है कि प्रधानमंत्री मोदी अगले महीने वेनेजुएला में आयोजित होने वाले गुटनिरपेक्ष आंदोलन (नाम) सम्मेलन में हिस्सा लेने नहीं जाएं, सूत्रों ने कहा कि अभी यह निर्णय नहीं किया गया है कि सम्मेलन में भारत का प्रतिनिधित्व कौन करेगा।

इसे भी पढ़िए :  सलमान की दबंगई, महाराष्ट्र महिला आयोग के सामने नहीं हुए पेश

पीटीआई को सरकार के सूत्रों ने इसके साथ ही कहा कि नाम के प्रति भारत की नीति में कोई परिवर्तन नहीं हुआ है। 1979 में चौधरी चरण सिंह के प्रधानमंत्री रहने के दौरान वह आखिरी मौका था जब भारत के किसी प्रधानमंत्री ने नाम में हिस्सा नहीं लिया था।

बलूचिस्तान में स्थिति को लेकर मोदी की टिप्पणी के बारे में पूछे जाने पर सूत्रों ने कहा कि यह प्रधानमंत्री की ओर से चिंता की अभिव्यक्ति थी और यह अचानक नहीं आई। सूत्रों ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी बलूचिस्तान में मानवाधिकार उल्लंघनों और पाकिस्तानी सेना की ओर से की जाने वाली ज्यादतियों से चिंतित थे।

इसे भी पढ़िए :  CIA का दावा, 1985 में तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने की थी हाइड्रोजन बम टेस्ट करने की तैयारी

सूत्रों ने कहा कि यह सवाल ‘‘अपरिपक्व और अप्रासंगिक’’ हैं कि बलूचिस्तान में भारत किसके साथ समन्वय करेगा और वह वहां क्या करेगा। चीन के विदेश मंत्री वांगयि के साथ एनएसजी के मुद्दे पर गत सप्ताह हुई चर्चाओं के बारे में सूत्रों ने कहा कि गत जून में सोल में 48 देशों के समूह की पूर्ण बैठक में चीनी प्रतिनिधिमंडल के नेता जल्द ही भारत यात्रा पर आएंगे। सूत्रों ने कहा कि उनकी यात्रा के दौरान सभी संबंधित मुद्दों पर चर्चा की जाएगी।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY