भारतीय फील्डर के हेलमेट की वजह से आउट होने से बचा गया न्यूजीलैंड का यह बल्लेबाज

0
हेलमेट

भारत और न्‍यूजीलैंड के बीच कानपुर में चल रहे पहले टेस्‍ट के दूसरे दिन बल्‍लेबाज को फील्‍डर के हेलमेट ने बचा लिया। जिस बल्‍लेबाज को यह जीवनदान मिला वे हैं न्‍यूजीलैंड के टॉम लाथम। भारतीय स्पिनर रवींद्र जडेजा की गेंद पर लाथम ने स्‍वीप शॉट खेला जिस पर केएल राहुल ने कैच लपक लिया। लेकिन मैदान अंपायर्स ने इस बारे में तीसरे अंपायर की मदद ली। उन्‍होंने काफी जांच के बाद लाथम को नॉटआउट दिया और इसकी वजह बना राहुल का हेलमेट। इसके कुछ देर बाद ही लाथम ने अपना अर्धशतक पूरा कर लिया। लाथम का भारत में यह पहला टेस्‍ट अर्धशतक है।

इसे भी पढ़िए :  सौरभ गांगुली को जान से मारने की धमकी देने वाला गिरफ्तार

दरअसल हुआ यह है कि न्‍यूजीलैंड की पारी के 37वें ओवर की चौथी गेंद पर लाथम ने जडेजा की गेंद पर स्‍वीप खेला। लेकिन गेंद उनके बल्‍ले के निचले हिस्‍से को छूते हुए जूते को लगी और उछल गई। शॉर्ट लेग पर तैनात केएल राहुल ने इसे दो बार के प्रयास में लपक लिया। मैदानी अंपायर रिचर्ड कैटबॉरो ने इंतजार करने को कहा और तीसरे अंपायर की मदद ली। रिप्‍ले में जडेजा की गेंद सही थी और लाथम के जूते से लगकर गेंद के हवा में उछलने तक फैसला भारत के पक्ष में था। लेकिन कैच लेने के दौरान राहुल को थोड़ी परेशानी हुई और गेंद उनके हाथ से छूटती दिखी। लेकिन उन्‍होंने इसे पकड़ लिया। हालांकि इसी दौरान गेंद उनके हेलमेट की जाली को लग गई। तीसरे अंपायर ने फैसला टॉम लाथम को नॉट आउट करार दिया।

इसे भी पढ़िए :  आखिरी वनडे में भारत ने न्यूजीलैंंड को धोया, सीरीज पर 3-2 से कब्जा

इस फैसले के बाद भारतीय टीम के कप्‍तान विराट कोहली अंपायर से कारण भी पूछते नजर आए। वजह जानने के बाद राहुल, जडेजा और कोहली काफी निराश दिखे। नियम है कि कैच लेने के दौरान फील्‍डर का कोई भी बाहरी प्रोटेक्टिव गियर जैसे कि हेलमेट या एल्‍बो गार्ड बीच में आ जाता है या फिर कैच से पहले गेंद को छू लेता है तो आउट नहीं दिया जा सकता।  इससे पहले भारत की पहली पारी 318 रन पर समाप्‍त हुई। रवींद्र जडेजा 42 रन बनाकर नाबाद रहे।

इसे भी पढ़िए :  कानपुर टेस्ट में भारत की ऐतिहासिक जीत, पाकिस्तान को पछाड़कर बना रैंकिग में नंबर वन

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY