गुजरात: गाय का कंकाल नहीं फेंकने पर गर्भवती दलित महिला को पीटा

0
फाइल फोटो।

नई दिल्ली। गुजरात के बनासकांठा जिले के करजा गांव में एक गर्भवती दलित महिला सहित उसके परिजन की उस वक्त कथित तौर पर बुरी तरह पिटाई की गई, जब उन्होंने एक गाय का कंकाल कहीं दूर फेंक आने से इनकार कर दिया।

पुलिस के मुताबिक, शनिवार(24 सितंबर) को इस सिलसिले में आईपीसी और एससी-एसटी (उत्पीड़न रोकथाम) कानून की विभिन्न धाराओं के तहत छह लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

इसे भी पढ़िए :  मोदी सरकार ने 'जेबकतरे' की तरह लोगों से पैसा ले लिया: सीताराम येचुरी

निलेश रनवासिया की ओर से दर्ज कराई गई प्राथमिकी के मुताबिक, दरबार समुदाय के करीब 10 लोगों ने बीती रात उसकी गर्भवती पत्नी संगीता सहित उसके पूरे परिवार की उस वक्त पिटाई की जब उन्होंने गाय के शव को दूर फेंक आने से इनकार कर दिया।

संगीता और दो अन्य महिलाओं सहित छह लोग पिटाई की वजह से घायल हुए हैं। संगीता को पालनपुर सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया, जबकि मामूली तौर पर जख्मी हुए निलेश एवं अन्य को प्राथमिक उपचार के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई।

इसे भी पढ़िए :  IAS टॉपर टीना डाबी और अतहर आमिर जल्द ही करेंगे शादी

बनासकांठा के पुलिस अधीक्षक नीरज बड़गूजर ने कहा कि पुलिस तुरंत गांव में पहुंची और कुछ ही घंटों के भीतर छह लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया। गिरफ्तार किए गए लोगों की पहचान बतावरसिंह चौहान (26), मकनुसिंह चौहान (21), योगीसिंह चौहान (25), बावरसिंह चौहान (45), दिलवीरसिंह चौहान (23) और नरेंद्रसिंह चौहान (23) के तौर पर की गई है।

इसे भी पढ़िए :  प्रेग्नेंट कुतिया को मार कर लाश के साथ किया सेक्स, पढ़िए क्या है आरोपी का नाम

बड़गूजर ने कहा कि गांव में तनाव बढ़ने के कारण पुलिस ने सुरक्षा कड़ी कर दी है और गश्त बढ़ा दी है।

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY